दक्षिण भारत के प्रमुख राजवंश PDF (Free Download)

आज के इस पोस्ट के माध्यम से हम आपके साथ दक्षिण भारत के प्रमुख राजवंश PDF शेयर करेंगे, जिसे आप इसी पोस्ट में नीचे दिए गए डायरेक्ट डाउनलोड लिंक की सहायता से निशुल्क डाउनलोड करके पढ़ सकते है|

जैसे कि हम सब जानते है कि दक्षिण भारत में प्राचीन समय में बहुत सारे राजवंश हुआ करते थे, जिसके बारे में अक्सर प्रतियोगी परीक्षा में भी सवाल पूछा जाता है| इसीलिए आपको भी दक्षिण भारत के सभी प्रमुख राजवंशों के बारे में विस्तार से पढना चाहिए| आप इस पीडीऍफ़ को डाउनलोड करके निशुल्क पढ़ सकते है|

दक्षिण भारत के प्रमुख राजवंश PDF

आइये दक्षिण भारत के कुछ प्रमुख राजवंशो के बारे में संक्षेप में जानते है-

पल्लव वंश- पल्लव वंश को दक्षिण भारत का एक प्रमुख राजवंश माना जाता है| और इस वंश का संस्थापक सिंह विष्णु को माना गया है| दरअसल पल्लव वंश का उदय सातवाहन वंश के पतन के समय ही हुआ था| इस वंश के काम में वराह मंदिर का निर्माण महाबलीपुरम में किया गया था| इस वंश के संस्थापक सिंह विष्णु वैष्णव धर्म का अनुयायी था|

चोल वंश- चोल वंश भी दक्षिण भारत के प्रमुख राजवंशों में एक था| इसका वंश का राज्य क्षेत्र तमिलनाडु और कर्नाटक का कुछ भाग था| चोल वंश का राजधानी चनौर था| इस वंश के समय राज्य का संबोधन मंडलम बोलकर किया जाता था|

अगर आप भी दक्षिण भारत के सभी राजवंशो के बारे में विस्तार से पढना चाहते है तो इस पोस्ट में शेयर किये गए पीडीऍफ़ नोट्स का अध्ययन अवश्य करे|

Major Dynasty of South India PDF: Overview

PDF Nameदक्षिण भारत के प्रमुख राजवंश PDF
LanguageHindi
No. of Pages14
PDF Size2.5 MB
CategoryHistory
QualityExcellent

Download दक्षिण भारत के प्रमुख राजवंश PDF

नीचे दिए गए डाउनलोड बटन का अनुसरण करके आप दक्षिण भारत के सभी प्रमुख राजवंशों के नोट्स को पीडीऍफ़ के रूप में डाउनलोड करके पढ़ सकते है|

आज के इस पोस्ट के माध्यम से हमने आपके साथ Major Dynasty of South India PDF शेयर किया, उम्मीद है कि इस नोट्स में दी गयी जानकारी आपको अवश्य पसंद आएगी| अगर आप प्रतियोगी परीक्षा के लिए तैयारी कर रहे है तो मोहनजोदड़ो का इतिहास PDF भी आपके लिए महत्वपूर्ण हो सकता है|

अन्य महत्वपूर्ण पोस्ट-

Suraj Sharma

Suraj Sharma is a Author of this blog who writes Education related information in simples languages so that every students can understand easily.

Leave a Reply

Your email address will not be published.