[PDF] शैव धर्म का इतिहास – History of Shaiv Dharm PDF

आज के इस पोस्ट के माध्यम से हम आपके साथ शैव धर्म का इतिहास PDF (History of Shaiv Dharm PDF) और इससे जुडी जानकारियाँ शेयर करेंगे| जिसे आप इस पोस्ट के नीचे दिए गए डायरेक्ट Download Link की सहायता से बिलकुल मुफ्त में Download कर सकते हैं|

भगवान शिव से सम्बंधित धर्म को शैव धर्म कहा जाता है| जो लोग भगवान शिव का पूजा करता है, उसे शैव कहते हैं| इस धर्म का प्रमाण सबसे पहले मत्स पुराण से मिलता है| क्योंकि मत्स पुराण में ही सबसे पहले शिव लिंग पूजा की प्रमाण मिला है|

शैव धर्म का इतिहास PDF

वामन पुराण में शैव संप्रदाय को चार भागों में बांटा है| जिसमे पशुपति,कापालिक,कालामुख और लिंगायत शामिल है| पशुपति संप्रदाय का स्थापना लकुलीश ने किया था| कापालिक संप्रदाय के इष्टदेव भैरव थे,और कालामुख संप्रदाय के लोगों को महाव्रतधर कहा जाता है| शैव धर्म में लिंगायत संप्रदाय को जंगम या वीर शैव के नाम से भी जाना जाता है|

अथर्वेद में भगवान शिव को शर्व, भव, पशुपति और भूपति जैसे नाम से जाना जाता है| नायर संतो ने दक्षिण भारत में जाकर शैव धर्म का विस्तार करने में महत्पूर्ण भूमिका निभाया है| नाथ संप्रदाय की स्थापना मत्स्येन्द्र नाथ ने किया था| इस संप्रदाय का प्रमुख प्रचारक बाबा गोरखनाथ को माना जाता है|

शैव धर्म के संपूर्ण इतिहास को जानने के इस पोस्ट में शेयर किये गए PDF नोट्स का अध्ययन आवश्य करें| क्योंकि इस पीडीऍफ़ में शैव धर्म का इतिहास के बारे में पूरी जानकारी दिया गया है|

History of Shaiv Dharm PDF: Overview

PDF Nameशैव धर्म का इतिहास PDF
Language Hindi
No. of Pages20
PDF Size390 KB
CategoryHistory
QualityGood

Download शैव धर्म का इतिहास PDF

नीचे दिये Download बटन के सहायता से आप शैव धर्म का सम्पूर्ण इतिहास को PDF के रूप में बिलकुल निः शुल्क Download कर सकते हैं|

आज के इस पोस्ट के माध्यम से हम आपके साथ शैव धर्म का इतिहास पीडीएफ नोट्स शेयर किया है, उम्मीद करता हूँ कि यह पोस्ट आप लोगों को अच्छा लगा होगा| यदि आप किसी प्रतियोगिता परीक्षाओं की तैयारी कर रहें हैं तो आपके लिए अशोक का धम्म PDF नोट्स भी आपके लिए महत्वपूर्ण हो सकता है|

अन्य महत्पूर्ण पोस्ट-

Suraj Sharma

Suraj Sharma is a Author of this blog who writes Education related information in simples languages so that every students can understand easily.

Leave a Reply

Your email address will not be published.