भारत में नारी शिक्षा पर निबंध | महिलाओं में शिक्षा की स्थिति

भारत में नारी शिक्षा पर निबंध, महिलाओं में शिक्षा की स्थिति, भारत देश में महिलाओं का योगदान, वर्तमान में महिलाओं की शिक्षा की स्थिति

विगत 10-15 वर्षों में महिलाओं में शिक्षा का विकास हुआ है, सरकार द्वारा महिलाओं की स्कूल तथा कॉलेज में कई तरह की सुविधाएँ उपलब्ध करायी जाती गई, जैसे- कई प्रकार के स्कालरशिप आदि छात्राओं को दिया जाता है ताकि महिलाएं शिक्षा प्राप्त कर सके|

महिलाओं की शिक्षा की स्थिति में पहले की तुलना बहुत ज्यादा सुधार हुआ है, वर्तमान समय में महिलाएं भी पुरुषों के सामान शिक्षा ग्रहण कर रही है और पुरुषों के सामान देश के विकास में अपना योगदान देती है| महिलाओं का शिक्षित होना किसी भी देश के विकास के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण होता है|

अगर प्राचीन भारतीय समाज में मजार डाला जाये तो प्राचीन समय में महिलाओं की शिक्षा को महत्व नहीं दिया जाता था| और न ही महिलाओं को घर से बहार जाकर शिक्षा ग्रहण करने की अनुमति दी जाती थी, परन्तु वर्तमान समाज महिलाओं की शिक्षा को भी उतना ही महत्व देता है जितना पुरुषों की शिक्षा पर दिया जाता है| परन्तु आज भी कुछ ग्रामीण क्षेत्रों को महिलाओं की शिक्षा ग्रहण करने से वंचित रखा जाता है, लेकिन यह समस्या दिन-प्रतिदिन कम होते जा रही है|

भारत में नारी शिक्षा पर निबंध

पहले महिलाओं की शिक्षा की स्थिति

पहले महिलाओं की शिक्षा के क्षेत्र में स्थिति काफी कमजोर थी, उन्हें शिक्षा के क्षेत्र में उतना दर्जा नहीं दिया जाता था जितना पुरुषों को दिया जाता था| कुछ वर्ष पहले यहीं लगभग15 वर्ष से पहले महिलाओं का स्थान पुरुषों की तुलना निम्न रखा जाता था| पहले यह समझा जाता था कि महिलाओं का काम सिर्फ खाना बनाना, कपड़ा धोना, और शादी करने के बाद पति का सेवा करना है|लेकिन यह सोच समय के साथ-साथ परिवर्तित होने लगा और महिलाओं की शिक्षा के क्षेत्र में सुधार होने लगा है|

वर्तमान में महिलाओं की शिक्षा की स्थिति

जैसे-जैसे समय परिवर्तित हुआ वैसे-वैसे महिलाओं की शिक्षा पर जोड़ दिया देना आरम्भ हो गया, क्योंकि बुद्धिमान लोगों को यह समझ आ चूका था की सिर्फ पुरुष ही देश का विकास नहीं कर सकते है, किसी भी देश का विकास के लिए उस देश में महिलाओं का योगदान बहुत ही महत्वपूर्ण होता है|

आज के समय में महिलाओं की शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए सरकार कई तरह की जैसे- छात्रवृति, पोषक, साइकिल, रुपया और खाना-पीना आदि सुविधाएँ पप्रदान करती है, ताकि समाज महिलाओं को भी स्कूल भेजे और महिलाएं भी शिक्षा ग्रहण कर सके|

भारत देश में महिलाओं का योगदान

आज के वर्तमान समय में महिलाएं हर क्षेत्र में अपना योगदान दे रही है, चाहे वह सरकारी क्षेत्र हो या गैर सरकारी क्षेत्र| जैसे- सेना, आर्मी, शिक्षक, व्यापार, कृषि, इंजिनियर..आदि| पहले भारत के राष्ट्रीय आय में महिलाओं का योगदान बिलकुल नहीं के बराबर था परन्तु वर्तमान समय में भारत के राष्ट्रीय आय में महिलाओं का योगदान 10% से अधिक है, जो दिन-प्रतिदिन बढ़ रहा है और ऐसा अनुमान किया जा रहा है कि आगे आने वाले समय में भारत के राष्ट्रीय आय में महिलाओं का योगदान भी ज्यादा होगा|

और भारत का तीव्र विकास तब ही संभव है जब महिलाएं भी देश तथा अपने समाज के विअक्स के लिए काम करे और ऐसा तब ही हो सकता है, जब महिलाओं को शिक्षा ग्रहण करने की अनुमति समाज द्वारा दी जाये| क्योंकि शिक्षा के बिना विकास कभी भी संभव नहीं हो सकता है|

महिलाओं से सम्बंधित कुछ सामान्य जानकारी

  • भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की प्रथम महिला अध्यक्ष – एनी बेसेंट
  • प्रथा भारतीय महिला क्रिकेट कप्तान – शांता रंगास्वामी
  • प्रथम क्रांतिकारी महिला – मैडम कामा
  • भारत की प्रथम महिला शासक – रजिया सुल्तान
  • भारत की प्रथम महिला प्रधानमंत्री – इंदिरा गाँधी
  • भारत की प्रथम महुला राजदूत – विजयलक्ष्मी पंडित
  • भारत की प्रथम महिला अहिवक्ता – रेगिना गुहा
  • अर्जुन पुरुष्कार पाने वाली पहली महिला – एन. लम्सडेन
  • लेनिन शांति पुरुष्कार के सम्मानिंत प्रथम महिला – देविका रानी रोरिक

आज के इस पोस्ट के माध्यम से हमने आपके साथ भारत में नारी शिक्षा पर निबंध शेयर किया, उम्मीद है कि इस पोस्ट में शेयर की गयी जानकारी आपको अवश्य पसंद आई होगी| अगर पोस्ट पसंद आया तो अपने दोस्तों के साथ अवश्य शेयर करे|

अन्य महत्वपूर्ण पोस्ट-

Anupama Singh

Anupama Singh इस ब्लॉग का एक लेखक है जो शिक्षा से सम्बंधित जानकारी को सरल भाषा में इस ब्लॉग के माध्यम से आपलोगों के साथ शेयर करती है|

Leave a Reply

Your email address will not be published.