पर्यावरण पर निबंध | Essay on Environment in Hindi

पर्यावरण पर निबंध | Essay on Environment in Hindi: हमारा जेवण पूर्ण रूप से पर्यावरण में निर्भर रहता है हमारे आस-पास का क्षेत्र जिसप्रकार रहता है ठीक उसी प्रकार हमारा जीवन भी रहता है| जैसे अगर हमारे आस-पास का क्षेत्र गन्दगी से भरा हुआ है तो हमारे जीवन में रोगों का वास होता है|

आज के इस पोस्ट के माध्यम से हम आपके साथ पर्यवाराब पर निबंध शेयर करेंगे, जिसमे पर्यावरण से सम्बंधित सम्पूर्ण जानकारी दी गयी है|

पर्यावरण पर निबंध (Essay on Environment in Hindi)

पर्यावरण हमें चारों तरफ से घेरे हुए हैं पर्यावरण हमें एक स्वस्थ जीवन जीने और विकसित होने के बेहतर माध्यम देता हैI यह हमें वह सभी चीजें प्रदान करता है जो इस दुनिया पर जीवन जीने के लिए आवश्यक होती हैI स्वस्थ पर्यावरण की वजह से ही हम एक स्वस्थ जीवन जी पाते हैं पृथ्वी पर जीवन बनाए रखने के लिए हमें पर्यावरण के वास्तविकता को बनाए रखना अत्यंत आवश्यक है I केवल पृथ्वी पर ही जीवन संभव है, और पृथ्वी पर एक स्वस्थ जीवन जीने के लिए स्वस्थ पर्यावरण सबसे ज्यादा जरूरी है I कई सालों से हर वर्ष 5 जून को विश्व पर्यावरण दिवस मनाया जाता है और लोगों को जागरूक किया जाता है कि पर्यावरण स्वच्छ रखना कितना आवश्यक है और यह दिवस दुनिया भर में मनाया जाता हैI 

लेकिन ये बात हम सभी जानते है कि पर्यावरण कितना ज्यादा दूषित हो चुका है लोग अब जगह जगह पर घर के कूड़े कचरे फेंक देते हैं पेड़ों को काटकर उनकी लकड़ियों का इस्तेमाल करते हैं परंतु उस जगह पर दूसरा पेड़ नहीं लगाते हैं, साथ ही साथ दिन-ब-दिन मानव निर्मित तकनीक आधुनिक युग के वजह से पर्यावरण नष्ट होती जा रही है| समाजिक शारीरिक आर्थिक रूप से पर्यावरण प्रदूषण हमारे दैनिक जीवन के विभिन्न पहलुओं को प्रभावित करता हैI पर्यावरण प्रदूषण की वजह से मनुष्य जीवन में कई सारी बीमारियां पनप रही है बच्चे हो या बड़े सभी छोटी बड़ी बीमारियों से जूझ रहे हैं यह सिर्फ और सिर्फ दूषित पर्यावरण की वजह से ही हो रहा हैI 

मनुष्य कई सारी उद्योगों का इस्तेमाल करके रुपए तो कमा रहे हैं परंतु वह स्वस्थ नहीं है, क्योंकि पर्यावरण दूषित तो मानव जीवन दूषित| यह कहना गलत नहीं होगा कि हम एक स्वस्थ जीवन सिर्फ और सिर्फ शुद्ध पर्यावरण के वजह से ही जी पाते हैं लेकिन पर्यावरण अधिक मात्रा में दूषित होते जा रहे हैं| नदी नालों में गंदगी, जानवरों को मारकर जंगलों में फेंकना, यह सभी चीजें पर्यावरण को दूषित करती है पर्यावरण प्रदूषण पूरे दुनिया की सबसे प्रमुख समस्या बन चुकी है| इसका समाधान करने के लिए लोग कई वर्षों से परेशान है परंतु यह सिर्फ एक व्यक्ति की सोच से संभव नही है, बल्कि इसके लिए सभी लोगों को जागरूक होना अत्यंत आवश्यक है क्योंकि यह एक गंभीर समस्या है और इसके लपेटे में हम भी आ सकते हैं| इसलिए दूसरों को जागरूक करने से पहले खुद को जागरूक करना होगा खुद को पर्यावरण को स्वस्थ रखने के तरीके आजमाने होंगे|

भविष्य में जीवन को बचाए रखने के लिए पर्यावरण की सुरक्षा करना अत्यंत आवश्यक है, और यह इस पृथ्वी पर रहने वाले हर एक व्यक्ति की जिम्मेदारी है| हर व्यक्ति को पर्यावरण संरक्षण के अध्यक्ष का हिस्सा बनना है| हम सभी के जीवन में इस तरह की तकनीक उत्पन्न हुई है जो दिन-प्रतिदिन जीवन की संभावनाओं को खतरे में डाल रहे हैं और पर्यावरण को भी नष्ट कर रही है जिससे प्राकृतिक हवा पानी और मिट्टी यह सारी चीजें दूषित होती जा रही है, ऐसा लगता है जैसे कि आगे की पीढी तक पूरी दुनिया बहुत बड़े खतरे में आ जाएगी इसका बुरा प्रभाव सिर्फ मनुष्य में ही नहीं बल्कि जानवरों पेड़ों में भी देखा जा सकता है| सबसे ज्यादा वातावरण दूषित औद्योगिक कंपनियों से निकलने वाले धुएं की वजह से होता है क्योंकि यह निकलने वाला धुआं पूरी वायु को दूषित कर देता है, और जब व्यक्ति सांस लेते हैं तब यह दूषित वायु ग्रहण कर लेते हैं जिस वजह से कई सारी छोटी बड़ी बीमारियां उन्हें घेर लेती है|

पर्यावरण को दूषित होने से बचाने के लिए हमें अपनी बुरी आदतों को बदलना होगा पर्यावरण पूरी तरह से नष्ट होने से पहले अगर हम जागरूक हो जाए तो पर्यावरण नष्ट नहीं होगा| हम अपने स्वार्थ की पूर्ति तथा विनाशकारी कामनाओं के लिए प्राकृतिक संसाधनों का गलत उपयोग कर रहे हैं जोकि बहुत ही खतरनाक है| हमें इस बात का ख्याल रखना अत्यंत आवश्यक है कि आधुनिक तकनीक परिस्थितियों में संतुलन को भविष्य में कभी रद्द ना करे समय आ चुका है कि हम प्राकृतिक संसाधनों का दुरुपयोग बंद करें और इनका सही उपयोग करना लोगों को सिखाए और खुद भी सीखें| हमारे जीवन को बेहतर बनाने के लिए विज्ञान तथा तकनीक को विकसित करना बहुत अच्छी बात है लेकिन हमें इसके साथ-साथ पर्यावरण का भी खास ख्याल रखना बहुत जरूरी है|

प्रकृति ने हमें कई सारे भेट प्रदान किए हैं अब वक्त हैं कि हमें प्रकृति को भेंट प्रदान करना है उनकी रक्षा करनी है उन्हें जीवित रखना है I धीरे-धीरे प्रकृति नष्ट होती जा रही है हमें इन्हें रोकना है| समय की शुरुआत से पर्यावरण हमारी वनस्पति और प्राणी समूह से संबंध स्थापित करने में बहुत मदद की है| प्रकृति का होना मानव जीवन के लिए अत्यंत आवश्यक है और यह बात सभी जानते हैं कि अगर प्रकृति को नुकसान होता है तो मानव जीवन भी खुशहाल नहीं रह सकता इसलिए प्रकृति से जुड़ी सभी चीजों को सुरक्षित रखने की कोशिश करें ना कि उन्हें जड़ से मिटाने की| इन सभी बातों के लिए खुद भी जागरूक होना आवश्यक है और दूसरों को भी जागरूक करना अत्यंत आवश्यक है I

इन्हें भी पढ़े – भारत में नारी शिक्षा पर निबंध | महिलाओं में शिक्षा की स्थिति

Anupama Singh

Anupama Singh इस ब्लॉग का एक लेखक है जो शिक्षा से सम्बंधित जानकारी को सरल भाषा में इस ब्लॉग के माध्यम से आपलोगों के साथ शेयर करती है|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *