बिहार में पशुपालन तथा पशुपालन से सम्बंधित प्रश्न उत्तर

आज के इस पोस्ट में हमलोग बिहार में पशुपालन तथा बिहार में पशुपालन से सम्बंधित प्रथ उत्तर के बारे में विस्तार से चर्चा करेंगे| इस पोस्ट का मकसद बिहार की पशुपालन की सम्पूर्ण जानकारी को आपतक पहुचाना है|

बिहार में पशुपालन मुख्य रूप से बिहार के ग्रामीण क्षेत्रों में किया जाता है| क्योंकि ग्रामीण क्षेत्र लोग पशुपालन को आपने आय का अन्य स्रोत समझते है| जिससे उनकी आय में वृद्धि हो जाती है| गरीबी रेखा के निचले लोगो के लिए यह एक रोजगार का अवसर माना जाता है| ये लोग पशुपालन से अपना जीवन यापन करते है| पशुपालन बड़े पैमाने पर रोजगार भी उपलब्ध करता है| क्योकि गाँव के लोग अक्सर परंपरागत कृषि व्यवस्था में पशुओ को खेत जोताई, माल ढ़ोने, गाड़ी खीचने,खाद एवं इंधन के लिए उपयोग में लाते है| इन्ही पशुओ से मांस, दूध, उन,एवं चमरा आदि प्राप्त होता है| हंश तथा मुर्गी से अंडे एवं मांस की प्राप्ति होता है| पोखर तथा तालाबो में मछली पालन भी काफी प्रचलित है और इसे सुचारू ढंग से यहाँ के लोग करते है| बिहार के ग्रामीण जीवन में पशुपालन का समाजिक तथा आर्थीक महत्व है| बिहार की भौगोलिक दसा के कारण यहाँ वृहत मात्र में पशुपालन किया जाता है|

बिहार में पशुपालन

बिहार के प्रमुख पशुधन में गाय, बैल, भैस, बकरी,भेड़, घोड़ा, मुर्गी, बतख आदि शामिल है| पशुधन बिहार के अर्थव्यवस्था का एक अभिन्न अंग माना जाता हैं| बिहार में लगभग 30 व्यक्तियों में एक पशु पाया जाता है| जबकि पुरे भारत में औसतन प्रति 20 व्यक्तियों में एक पशु पाया जाता है| यदि इसकें अलावें बिहार के ग्रामीण क्षेत्र की बात किया जाये तो औसतन प्रति 5 व्यक्ति में एक गाय तथा एक बैल पाले जाते हैं| व्यवसायिक दृष्टि से देखा जाये तो गाय की तुलना में भैस का अधिक महत्व है| क्योकि बिहार में 60% दूध केवल भैस से प्राप्त किया जाता है|

बिहार सरकार पशुपालन को प्रोत्साहन देने के लिए पशुओ की चिकित्सा,टीकाकरण, बंधियाकरण, कृतिम ग्राभाधान तथा चारा बीजो का निशुल्क वितरण आदि कार्यक्रम चलाती है| बिहार सरकार की ओर से पटना, मुंगेर, भागलपुर, सहरसा, पूर्णिया,मुजफ्फरपुर, दरभंगा, छपरा एवं बांका में कृतिम गर्भधान के लिए तरल नाइट्रोजन के भंडारण के लिए भंडार स्थापित किया गया है| जिससे गाय एवं भैसों को इंजेक्शन के द्वारा आसानी से गर्भवती किया जाता है|

बिहार में मछली पालन

bihar me machli palan

बिहार में लगभग 237.3 हजार हेक्टेयर में जल क्षेत्र है और 3200 किलोमीटर लम्बाई में नदियो का विस्तार है| यह राज्य के कुल भोगोलिक क्षेत्रफल का लगभग 3.9% है| इतने बड़े क्षेत्रों बिहार के ग्रामीण लोग मछली पालन करके अपने परिवार का भरण पोषण करते है| यदि 2017-18 की आकड़ा के अनुसार देखा जाये तो केवल बिहार मे 587.85 हजार टन मछली का उत्पादन हुआ है| बिहार में मछली उत्पादन जिले मधुबनी, जहानाबाद, कटिहार,किशनगंज मुजफ्फरपुर तथा अररिया आदि शामिल है| बिहार में सबसे अधिक मछली उत्पादन जिला मधुबनी है| जो केवल अकेला 65.65 हजार टन मछली उत्पादन किया है| जबकि सबसे कम जहानाबाद और अररिया जिले में मछली का उत्पादन हुआ है| जो मात्र 1.26 हजार टन है| बिहार के प्रमुख मछलियों में रहू, मांगू, कतला, टेंगरा, बोअरी, झिंगा, लोच, गरई, सिंगी, कबई तथा सिल्वर कप आदि मछलिया है| बिहार में प्रति व्यक्ति मछली की खपत लगभग 7.7 किलोग्राम वार्षिक है| जो राष्ट्रीय खपत का औसतन लगभग 18.8 किलोग्राम वार्षिक है|

बिहार में पक्षी पालन

Bihar me pakshi palan

बिहार के उत्तर-पूर्वी भाग में मुर्गी, कबूतर तथा बतख आदि पक्षियो का पालन अधिक मात्र में किया जाता है| क्योकि इस क्षेत्र का जलवायु पक्षियो के पालन के लिए अपेक्षाकृत अनुकूल होता है| पक्षियो मामले में राज्य के जिले कटिहार, किशनगंज, मुजफ्फरपुर अररिया तथा वैशाली आदि सामिल है| जिसका संयुक्त रूप से राज्य के कुल पक्षी संवाद में 30.9% हिस्सा सामिल है| जिससे राज्य को अधिक मात्र में मांस एवं अंडे की प्राप्ति होता है|

इन्हें भी पढ़े- बिहार की प्रमुख भाषाएँ

पशुपालन से जुड़े कुछ प्रश्न-उत्तर

  • “बकरी” को गरीबों की गाय भी बोला जाता है|
  • “जर्सी” गायों की विदेशी नस्ल को कहते है|
  • “बुबेलस बुबेलिस” भैस का वैज्ञानिक नाम है|
  • भेड़ की गर्भकाल 145 से 152 दिन का होता है|
  • परजीवी थनेला रोग का कारन है, जो जानवरों को होता है|
  • लेक्टोज को दुग्ध शर्करा के नाम से भी जाना जाता है|
  • चिकन मुर्गो के मांस को कहा जाता है|
  • पार्क शुअर के मांस को कहा जाता है|
  • बिहार में लहभग 60 फीसदी दुश भैसों से प्राप्त किया जाता है|
  • बिहार के ग्रामीण इलाके में प्रति 5 व्यकरी में 1 गाय या भैस पाया जाता है|
  • बिहार में पशुपालन, बिहार की अर्थव्यवस्था का एक मुख्य आधार माना जाता है|
  • बिहार में गाय को पालना बहुत ही शुभ मना जाता है|
  • बिहार में अक्सर गरीब वर्ग के ही लोग ज्यादा पशुपालन करके है|
  • “बोस इंडीकस” भारतीय गाय का वैज्ञानिक नाम है
  • लोही बहर की एक नस्ल है|
  • मुर्गा पालन भी बिहार में बड़े-पैमाने में होता है|
  • बिहार के मधुबनी में सबसे ज्यादा मछली पालन होता है|
  • सूअर की युवा माता को गिल्ट के नाम से जाना जाता है|

आज के इस पोस्ट के माध्यम से हमने बिहार में पशुपालन तथा बिहार के पशुपालन से सम्बंधित कुछ महत्वपूर्ण प्रश्न उत्तर को आपके साथ शेयर किया| उम्मीद है कि आपको इस पोस्ट में दी गयी जानकारी अवश्य पसंद आई होगी| अगर आप प्रतियोगी परीक्षा के लिए तैयारी कर रहे है तो बिहार की प्रमुख झीलें के बारे में भी जानना आपके लिए महत्वपूर्ण हो सकता है|

अन्य महत्वपूर्ण पोस्ट-

Kajal Sharma

Kajal Sharma is a Author of this Educational Blog, through this blog she will share important educational information with the visitor of this blog.

Leave a Reply

Your email address will not be published.